नारस। नई दिल्ली में भाजपा के केंद्रीय कार्यालय में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गृह मंत्री राजनाथ सिंह, राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह, वित्त मंत्री अरुण जेटली, विदेश मंत्री सुषमा स्वराज की उपस्थिति में भाजपा का संकल्प पत्र जारी किया। इस संकल्प पत्र का शुभारम्भ राष्ट्र सर्वप्रथम की हेडिंग से किया गया है। इस सम्बन्ध में वाराणसी पहुंचे भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष डॉ महेंद्र नाथ पांडेय से मीडिया ने बात की तो उन्होंने कहा कि यह संकल्प पत्र राष्ट्रवाद को मज़बूती देने वाला है।

राष्ट्रवाद का संकल्प पत्र
वाराणसी में भाजपा के साइबर योद्धा सम्मलेन में शिरकत के लिए वाराणसी पहुंचे भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष डॉ महेंद्र नाथ पांडेय ने कहा कि भाजपा का संकल्प पत्र भारतीय राजनीति में बिलकुल स्पष्ट राष्ट्रवाद को पूरी मज़बूती देते हुए, राष्ट्रवाद को देश की प्रगति का आधार मानते हुए ये भारत की जनता का मेनिफेस्टो है। हम 2022 तक सभी क्षेत्रों में अग्रणी होंगे। यह संकल्प पत्र देश को मज़बूती देने वाला है। वहीं उन्होंने कहा कि भाजपा अकेली पार्टी है जो अपने संकल्प पत्र के वादों को शत प्रतिशत पूरा करती है।

ये जनता का मेनिफेस्टो है
वहीं भाजपा के मेनिफेस्टों में 60 वर्ष की आयु पूरी कर चुके किसानों को पेंशन योजना पर उनसे जब पूछा गया कि क्या ये कांग्रेस की काट है तो उन्होंने कहा कि हमारा मेनिफेस्टो कांग्रेस के घोषणा पत्र के पहले ही तैयार हो गया था। ये संकल्प पत्र देश कोई जनता ने तय किया है आप के माध्यम से देश के प्रत्येक नागरिक के माध्यम से जो सुझाव हमारे पास पहुंचे हमने उनपर अमल करके यह संकल्प पत्र तैयार किया है। उन्होंने कहा कि भाजपा अकेलेल ऐसी पार्टी हिअ जिसने अपने 2014 के संकल्प पत्र के 559 वादों में से 520 वादों को पूरा करके दिखाया है।

2022 तक गंगा हो जाएगी
वहीं गंगा सफाई को 2022 तक ले जाने के संकल्प पत्र में वादे पर जब प्रदेश अध्यक्ष से सवाल किया गया कि आरोप लग रहे हैं कि गंगा की सफाई को टाला गया है तो भाजपा प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि टाला नहीं गया है। गंगा की सफाई निरंतर हो रही है और वो साफ़ भी हुई हैं। आने वाले 2022 तक गंगा पूर्ण रूप से अविरल और स्वच्छ हो जाएगी।

आज़म खां करे शिकायत
आज़म खां द्वारा दिए गए बयान रामपुर के अधिकारी चुनाव कराने नहीं मेरी हत्या कराने आये हैं के जवाब में डॉ महेंद्र नाथ पांडेय ने कहा कि भाजपा को भारत निर्वाचन आयोग पर पूरा भरोसा है और यदि उन्हें कोई शिकायत है तो वो निर्वाचन आयोग को पत्र लिखें। उन्होंने कहा कि उनका डर इसलिए भी हिअ क्योंकि वो खुद उसी प्रवित्ति के हैं और इस समय वो ऐसा कुछ कर नहीं पा रहे हैं। वही आज़म खां के पुलवामा हमले पर दिए बयान की मै प्रधानमंत्री होता तो 40 मिनट में पुलवामा हादसे का बदला लेता पर कहा कि उनका इस जन्म कोई संयोग नहीं है प्रधानमंत्री बनने का इसलिए ऐसा कह रहे हैं वो।

विज्ञापन