अमित शाह से नाराज बनारस के वकीलों की चेतावनी, नहीं करने देंगे मोदी जी को नामांकन

0
31

साथ में विधि संवाददाता अधिवक्ता धनंजय शर्मा

नारस। दी सेन्ट्रल बार एसोसिएशन वाराणसी द्वारा आज एक आपात बैठक बुलायी गयी। इस बैठक में भारतीय जनता पार्टी के मुखिया अमित शाह और केंद्र तथा प्रदेश सरकार पर अधिवक्ताओं की अनदेखी का आरोप लगाया गया।

बैठक में वकीलों ने एक स्वर में अपनी नाराजगी व्यक्त करते हुए कहा कि अगर 26 अप्रैल से पहले बीजेपी के मुखिया अमित शाह अधिवक्ता समाज की सुधि नहीं लेते हैं तो प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नामांकन का विरोध किया जाएगा। सेंट्रलबार के महामंत्री ने चेतावनी दी है कि अगर अधिवक्ताओं से वार्ता नहीं की गयी तो हम मोदी जी के नामांकन के दिन कुछ भी कर गुजर जाएंगे।

वकीलों ने भाजपा सरकार द्वारा अधिवक्ताओं की अनदेखी का मुद्दा उठाया गया। बार के अध्यक्ष ने आज वाराणसी पहुंचे भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह द्वारा वकीलों से ना मिलने पर भी रोष जताया। उन्होंने कहा कि समय रहते यदि मौजूद सरकार और सत्ताधारी पार्टी हमारी सुध नहीं लेती है तो हम विरोध को विवश होंगे।

इस समबन्ध में बात करते हुए दी सेन्ट्रल बार एसोसिएशन वाराणसी की अध्यक्ष शिवपूजन गौतम ने बताया कि आज वाराणसी सत्ताधारी पार्टी के राष्ट्रिय अध्यक्ष अमित शाह और सूबे के मुखिया योगी आदित्यनाथ आ रहे हैं। इन सभी का व्यापारी वर्ग, किसान, मज़दूर सभी से मिलने का प्रोग्राम है पर वकीलों के लिए इनके पास टाइम नहीं है, जबकि पिछले चुनाव में वकीलों ने अपना पूरा बहुमत इन्हे दिया था।

शिवपूजन सिंह गौतम ने कहा कि अभी भी समय है ये लोग वकीलों की बातों और मांगों का सम्मान करें वरना आने वाले चुनाव में हम सभी पार्टियों का मुँहतोड जवाब देंगे, क्योंकि किसी भी पार्टी ने अपने मेनिफेस्टो में वकीलों के हक़ की बात नहीं लिखी है।

इस मौके पर सेंट्रल बार के अध्यक्ष शिवपूजन सिंह गौतम, उपाध्यक्ष रेनू कुरेशी, महामंत्री बृजेश मिश्रा, बार के सदस्य राजेश सिंह, नागेन्द्र सिंह, विवेक सिंह, एपी सिंह, सीपी सिंह, गिरीश सिंह, प्रवीण मिश्रा, रमेश राय, दिनेश सिंह बैंक अधिवक्ता, आशीष आदि बडी संख्या में अधिवक्तागण मौजूद रहे।

देखें वीडियो