नारस। वाराणसी लोकसभा सीट के पूर्व सांसद व वरिष्ठ कांग्रेसी नेता डॉ राजेश मिश्रा को पार्टी ने सलेमपुर से टिकट दिया है। शनिवार को कांग्रेस की ओर से जारी सूची में यूपी, हरियाणा और मध्य प्रदेश की कुल 18 सीटों के लिये प्रत्याशी घोषित किये गये हैं। इसमें राजेश मिश्र को सलेमपुर से लडाने का फैसला पार्टी ने लिया है।

बता दें कि 2004 में हुए लोकसभा चुनाव में कांग्रेस प्रत्याशी डॉ राजेश मिश्रा ने अपने निकटतम प्रतिद्वंदी और बीजेपी के कद्दावर नेता शंकर प्रसाद जायसवाल को हराकर वाराणसी सीट पर कब्जा जमाया था। डॉ राजेश मिश्रा 1999 में भी वाराणसी से कांग्रेस के लोकसभा उम्मीदवार रहे। इस चुनाव में उन्हें दूसरे नंबर पर संतोष करना पडा था और शंकर प्रसाद जायसवाल विजयी हुए थे।

विज्ञापन

वहीं 2009 में डॉ राजेश मिश्र तीसरी बार वाराणसी से कांग्रेस के उम्मीदवार बने, मगर किस्मत ने उनका साथ नहीं दिया और उन्हें चौथे नंबर पर संतोष करना पडा। राजेश मिश्रा से ज्यादा वोट हासिल करने वाले सपा से अजय राय और बसपा से मुख्तार अंसारी भी चुनाव हार गये, जबकि बीजेपी के डॉ मुरली मनोहर जोशी ने वाराणसी सीट से भगवा परचम लहराया था।

इसके बाद 2017 में डॉ राजेश मिश्रा ने कांग्रेस के टिकट पर वाराणसी शहर दक्षिणी विधानसभा सीट से विधायकी का चुनाव लडा मगर यहां भी उन्हें बीजेपी के डॉ नीलकंठ तिवारी ने शिकस्त दे दी।

वाराणसी की राजनीति में चिरपरिचित चेहरा और बेहद मृदुभाषी माने जाने वाले डॉ राजेश मिश्रा अपने विरोधियों में भी खासे लोकप्रिय माने जाते हैं। बनारस हिन्दू युनिवर्सिटी की छात्र राजनीति से निकलकर मुख्यधारा की सियासत तक पहुंचने वाले डॉ राजेश मिश्रा ने सलेमपुर से टिकट मिलने पर खुशी जाहिर की है।

डॉ राजेश मिश्रा का ट्वीट

विज्ञापन
Loading...
www.livevns.in का उद्देश्‍य अपनी खबरों के माध्‍यम से वाराणसी की जनता को सूचना देना, शि‍क्षि‍त करना, मनोरंजन करना और देश व समाज हित के प्रति जागरूक करना है। हम (www.livevns.in) ना तो कि‍सी राजनीति‍क शरण में कार्य करते हैं और ना ही हमारे कंटेंट के लिए कि‍सी व्‍यापारि‍क/राजनीतिक संगठन से कि‍सी भी प्रकार का फंड हमें मि‍लता है। वाराणसी जिले के कुछ युवा पत्रकारों द्वारा शुरू कि‍ये गये इस प्रोजेक्‍ट को भवि‍ष्‍य में और भी परि‍ष्‍कृत रूप देना हमारे लक्ष्‍यों में से एक है।