नारस। विगत दिनों बीएचयू के बिड़ला हास्टल के सामने एमसीए के छात्र गौरव सिंह की हत्या में शामिल अभियुक्त और 25 हजार इनामिया को लंका पुलिस ने लौटूवीर पुलिया बाईपास के पास मुठभेड़ में गिरफ्तार कर लिया है।

गिरफ्तार हत्यारोपी अभियुक्त के पास से पुलिस ने एक पिस्टल, दो जिंदा कारतूस और एक चोरी की मोटरसाइकिल बरामद किया है।

पुलिस के अनुसार गिरफ्तार अभियुक्त रुपेश वर्मा उर्फ़ शनि मुनीब चौक जिला बक्सर बिहार का रहें वाला है, जिसके ऊपर बक्सर में एक और लंका थाने में चार मुक़दमे पहले से ही दर्ज है।

इस गिरफ्तारी का खुलासा करते हुए एसएसपी आनंद राव कुलकर्णी ने बताया कि बीएचयू बिड़ला हॉस्टल में हुई गौरव की हत्या के मामले में पूर्व में तीन अभियुक्तों को जेल भेजा जा चूका है, उन्ही अभियुक्तों के पूछताछ के आधार अभियुक्त को पकड़ने में सफलता मिली है।वही क्षेत्राधिकारी शिवपुर और लंका थाने के प्रभारी निरीक्षक भारत भूषण तिवारी के कुशल नेतृत्व में एक टीम दिन रात इस हत्याकांड में शामिल अभियुक्तों के तलाश में लगी हुई थी।

इसी दौरान पुलिस टीम को सूचना मिली की गौरव हत्याकांड में शामिल अभियुक्त इस समय लौटूवीर पुलिया बाईपास के पास मौजूद है।इस सूचना पर विश्वास करके पुलिस टीम ने मौके पर पंहुचकर मुठभेड़ में करके अभियुक्त को गिरफ्तार कर लिया, इस मुठभेड़ में सब इंस्पेक्टरब ईश्वर दयाल दूबे घायल हो गये तथा आत्मरक्षा में चलाई गयी गोली से अभियुक्त भी घायल हो गया जिसे गिरफ्तार कर इलाज के लिए अस्पताल भेजा गया।

वर्चस्व के लिए की गयी थी गौरव की हत्या

अभियुक्त शनि वर्मा से विधिवत पूछताछ में उसने बताया कि गौरव की हत्या वर्चस्व के लिए की गई, क्योकि गौरव और उनके समर्थक विश्वविद्यालय एवं आस पास के दवा की दुकानो और अस्पतालो से अच्छी धन वसूली करते थे।

जिनमे रूपेश तिवारी, पवन मिश्रा, मंगलम सिंह, आशुतोष त्रिपाठी हम लोगो के सहयोग से उसमें हस्तक्षेप करने लगे तो गौरव व उसकी टीम द्वारा इसका विरोध किया जाने लगा इसी कारण उन्हे रास्ते से हटाया गया एवं विरोधियो में दहशत कायम की गई।

गिरफ्तारी करने वाली टीम में प्रभारी निरीक्षकभारत भूषण तिवारी, सब इंस्पेक्टर प्रकाश सिंह, सब इंस्पेक्टर ईश्वर दयाल दूबे, सब इंस्पेक्टर शैलेन्द्र प्रताप सिंह, हेड कॉन्स्टेबल अतुल कुमार सिह, कॉन्स्टेबल विनायक त्रिपाठी, कॉन्स्टेबल मुकेश चौहान, कॉन्स्टेबल नरेन्द्र मोहन सिंह, हेड कॉन्स्टेबल राजेश सिंह सेगर, कॉन्स्टेबल भानू प्रताप सिंह, कॉन्स्टेबल बृजेश सिंह शामिल रहे।

विज्ञापन