नारस। भीम आर्मी चीफ चन्द्रशेखर उर्फ रावण ने वाराणसी से प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के खिलाफ चुनाव नहीं लड़ने की घोषणा कर दी है। एक समाचार एजेंसी को दिये गये अपने बयान में चंद्रशेशर उर्फ रावण ने इसे सोचा समझा फैसला बताया है।

रावण के अनुसार, ”मेरी वजह से दलित वोटों में बिखराव न हो इस लिए यह फैसला लिया गया है।”

चंद्रशेखर उर्फ रावण ने कहा है कि चुनाव में सपा-बसपा गठबंधन को समर्थन देने के लिये ही ये फैसला लिया गया है। उन्होंने कहा कि गठबंधन से अगर बसपा के नेता सतीश चन्द्र मिश्र को टिकट मिलता है, तो वे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को कड़ी चुनौती दे सकते हैं।

चन्द्रशेखर का मानना हैं कि सपा बसपा के बेस वोट के साथ सतीश मिश्र को ब्राह्मणों का भी समर्थन मिल जाएगा, जिससे मोदी की जीत की राह आसान नहीं होगी।

बता दें की हाल ही में चंद्रशेखर उर्फ रावण ने वाराणसी में रोड शो करके सियासी चर्चा बटोरी थी। रावण ने तब चुनौती देते हुए कहा था कि चौकीदार को खबरदार हो जाना चाहिए क्योंकि उसका हिसाबदार अब यहां से चुनाव लडने आ गया है। हालांकि अब चंद्रशेखर उर्फ रावण ने वाराणसी से चुनाव लडने से इनकार कर दिया है।

विज्ञापन