नारस। आए दिन आने वाली विभिन्न प्रकार की आपदाओं से बचाव हेतु पूर्व प्रबंधन जरूरी हो गया है। इसी के तहत 18 अप्रैल को आपदा प्रबंधन का ‘सक्षम’ नाम से मेगा मॉक ड्रिल डीएलडब्ल्यू के ऑडिटोरियम में सुबह 10 बजे से 12 बजे तक किया जाएगा।

आपदा प्रबंधन की मेगा मॉक ड्रिल के लिए विभिन्न विभागों की समन्वय समिति बैठक डीएलडब्ल्यू के टीटीसी में आयोजित हुई। बैठक में एनडीआरएफ के कमांडेंट उपाध्याय ने विस्तार से आपदाओं के कारण व उनसे बचाव हेतु बेहतर प्रबंधन पर पावर प्ले के माध्यम से समझाया।

वर्तमान में भूकंप, बाढ़, आग की दुर्घटनाएं जैसी आपदाओं की आशंका रहती है। कुशल प्रबंधन से आपदा से होने वाली क्षति को बचाया/ न्यून किया जा सकता है। आम लोगों में जागरुकता जरूरी है। माक ड्रिल से आपदा के समय करने वाले कार्यों में लगने वाला समय तथा आने वाली कठिनाइयों का पता चल जाता है और उसी अनुरूप पूर्व से प्रबंधन की व्यवस्था रखी जाती है।

वही अपर जिलाधिकारी वित्त एवं राजस्व सतीश पाल ने आपदाओं के दौरान के अपने अनुभवों को साझा किया। लखनऊ से आए आपदा प्रबंधन के प्रोजेक्ट मैनेजर बलबीर सिंह ने बताया कि राष्ट्रीय व राज्य स्तर पर आपदा प्रबंधन फोर्स की नई इकाइयां बनाई गई है। जो न्यूनतम इक्विपमेंट व तकनीकी से सुसज्जित है।आपदा प्रबंधन की इन बटालियनो द्वारा स्कूली बच्चों व समाज के विभिन्न वर्गों को भी प्रशिक्षण व जागरूक किया जाता है। मॉक ड्रिल के माध्यम से आपदा प्रबंधन की वास्तविकता की जानकारी होती है।

इस प्रकार विभिन्न विभागों यथा- डीएलडब्लू, मेडिकल, अग्निशमन, केंद्रीय रिजर्व पुलिस फोर्स, यातायात पुलिस, शिक्षा विभाग, सूचना विभाग, सिविल डिफेंस, बीएचयू के मेडिकल विंग, एनसीसी आदि के अधिकारी/प्रतिनिधि रूप से उपस्थित रहे।

विज्ञापन