फ़ाइल इमेज

नारस। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को वाराणसी लोकसभा सीट से अपना नामांकन दाखिल कर दिया है। इससे पूर्व उन्होंने काशी के कोतवाल कहे जाने वाले बाबा काल भैरव का विधिवत दर्शन पूजन किया। वाराणसी के पंडितों के अनुसार निकाले गए शुभ मुहूर्त में प्रधानमंत्री नामांकन करने के लिए बाबा काल भैरव के मंदिर से निकले। प्रधानमंत्री शास्त्रों के अनुसार कार्य सिद्धि के लिए सबसे प्रभावी और शुभ माने जाने वाले अभिजीत मुहूर्त में नामांकन किया।

प्रधानमंत्री ने काशी के कोतवाल और दंड के अधिकारी कहे जाने वाले बाबा काल भैरव का विधिवत दर्शन पूजन किया।

विज्ञापन

कपूर आरती से की बाबा की पूजा
मंदिर के महंत नवीन गिरी ने बताया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की कपूर आरती करवाई गयी है। इस दौरान उनका शरीर से तेल का उतारा किया गया है ताकि उनके सारे कष्ट दूर हो जाएं। उनको मंदिर की तरफ से पीतल का विष्णु शंख दिया गया है। साथ ही रुद्राक्ष की माला और मोमेंटो दिया गया है। उन्होंने प्रचंड बहुमत से भाजपा सरकार बनने की यहाँ मंगल कामना की।

क्या है अभिजीत मुहूर्त
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पर्चा दाखिले के लिए दिन-तारीख और योग तय करने के बाद वाराणसी के पंडितों ने उसका शुभ मुहूर्त भी निकाला। प्रधानमंत्री अभिजीत मुहूर्त में नामांकन किया। यह मुहूर्त कार्य सिद्धि का सबसे शुभ मुहूर्त माना जाता है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार अभिजीत मुहूर्त (Abhijit Muhurat) दिन का सर्वाधिक शुभ मुहूर्त माना जाता है। प्रत्येक दिन का आठवां मुहूर्त अभिजीत मुहूर्त कहलाता है। सामान्यत: यह 45 मिनट का होता है। हालांकि इसकी समयावधि सूर्योदय और सूर्यास्त पर निर्भर करती है। ज्योतिषशास्त्र के अनुसार यदि अभिजीत मुहूर्त में पूजन कर कोई भी शुभ मनोकामना की जाए तो वह निश्चित रूप से पूरी होती है।

नामांकन से पहले देश के चौकीदार ने लिया काशी के कोतवाल से आशीर्वाद

विज्ञापन
Loading...