नारस। साल 2014 में अपार जन समूह के साथ नामांकन स्थल पर पहुंचकर 24 अप्रैल को नामांकन करने वाले नरेंद्र मोदी ने 26 अप्रैल 2019 को दुबारा इसी संसदीय सीट से नामांकन किया। इस बार प्रधानमंत्री के प्रस्तावकों में काशी के डोमराजा भी शामिल हुए। काशी के महाश्मशान मणिकर्णिका के डोमराजा का नाम प्रस्तावकों में शमिल कर प्रधानमंत्री ने अलग सन्देश दिया है।

अभिजित मुहूर्त में हुआ नामांकन
अभिजित मुहूर्त में प्रधानमंत्री ने इस बार बिना किसी रोड शो के नामांकन स्थल पहुंचकर अपना नामांकन दाखिल किया। जिलाधिकारी/ज़िला निर्वाचन अधिकारी सुरेंद्र सिंह ने प्रधानमंत्री का नामांकन स्वीकार किया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नामांकन स्थल पर मौजूद पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री और अकाली दल के नेता प्रकाश सिंह बादल का पैर छूकर आशीर्वाद भी लिया। इसके बाद उन्होंने पंडित मदनमोहन मालवीय जी की मानस पुत्री अन्नपूर्णा शुक्ला का पैर छूकर आशीर्वाद लिया और अपने नामांकन की कार्रवाई पूरी की।

विज्ञापन

ये बने प्रस्तावक
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस बार कई ख़ास लोगों को अपना प्रस्तावक बनाया है, जिसमे काशी हिन्दू विश्वविद्यालय के महिला महाविद्यालय की पूर्व प्रधानाध्यापिका और मालवीय जी की मानस पुत्री अन्नपूर्णा शुक्ला, डोमराजा जगदीश चौधरी, भाजपा कार्यकर्त्ता सुभाष गुप्ता और कृषि वैज्ञानिक रमा शंकर पटेल शामिल हैं। अनुमान लगाये जा रहे थे कि प्रधानमंत्री किसी चौकीदार को भी अपने प्रस्तावकों में शामिल कर सकते हैं पर ऐसा नहीं हुआ।

एनडीए के इन नेताओं का रहा जमावड़ा
प्रधानमंत्री के नामांकन के दौरान एनडीए ने अपनी शक्ति का प्रदर्शन किया। इस दौरान बिहार के मुख्यमंत्री और जदयू प्रमुख नीतीश कुमार, शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे, अकाली दल के नेता प्रकाश सिंह बादल और सुखबीर बादल, अन्नाद्रमुक नेताओ पन्नीरसेल्वम और थम्बीदुरई, लोजपा प्रमुख रामविलास पासवान, अपना दल की नेता अनुप्रिया पटेल और एनडीपीपी नेता और नागालैंड के मुख्यमंत्री नेफ्यू रियो बनारस पहुंचे।

भाजपा के ये दिग्गज रहे मौजूद
भाजपा की तरफ से अमित शाह, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, विदेश मंत्री सुषमा स्वराज, उत्तरप्रदेश के लोकसभा चुनाव प्रभारी जेपी नड्डा, गृह मंत्री राजनाथ सिंह, सड़क एवं परिवहन मंत्री नितिन गडकरी मौजूद रहे।

पिछली बार ये थे प्रस्तावक
प्रधानमंत्री मोदी ने 2014 में जब पहली बार वाराणसी से लोकसभा चुनाव लड़ा था तब भी उनके प्रस्तावकों का खास तौर पर चयन किया गया था। पिछली बार गिरिधर मालवीय, शास्त्रीय गायक छन्नू लाल मिश्र, मल्लाह समुदाय से भद्रा प्रसाद निषाद और बुनकर समाज से अशोक कुमार प्रधानमंत्री मोदी के प्रस्तावक बने थे।

विज्ञापन
Loading...