नारस। पीएम नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को अपना नामांकन दाखिल किया। इसके साथ उन्होंने अपनी संपत्ति का ब्यौरा भी दिया। उनके पास ढाई करोड़ से कुछ अधिक की चल अचल संपत्ति है। संपत्ति के ब्यौरे के हिसाब से पिछले एक साल में पीएम मोदी की संपत्ति में केवल 22 लाख 85 हजार 621 रुपये की बढ़ोतरी हुई है। पीएम ने आने शपथपत्र में पत्नी जसोदाबेन का जिक्र तो किया है लेकिन उनकी संपत्ति के बारे में कोई जानकारी नहीं दी है।

केवल 38750 रुपए की नकदी
शुक्रवार को दाखिल किए गए शपथपत्र के अनुसार पीएम मोदी की कुल संपत्ति दो करोड़ 51 लाख 36 हजार 119 रुपये है। इसमें चल संपत्ति के नाम पर पीएम के पास केवल 38750 रुपए की नकदी है। वहीं भारतीय स्टेट बैंक की गांधी नगर शाखा में केवल चार हजार 143 रुपये हैं। इसके अलावा उनके पास एक करोड़ 27 लाख 81 हजार 574 रुपये का फिक्स डिपाजिट है।

विज्ञापन

नहीं है कोई पर्सनल व्हीकल
पीएम मोदी ने निवेश के नाम पर एलएंडटी इंफ्रा बांड में 20 हजार रुपये इन्वेस्ट कर रखा है। इसके अलावा उनके पास सात लाख 61 हजार 466 रुपये के नेशनल सेविंग्स सर्टिफिकेट है और एलआईसी में एक लाख 90 हजार 347 रुपये डिपाजिट कर रखे हैं। पीएम मोदी के पास अपना किसी तरह का कोई व्यक्तिगत वाहन नहीं है।

ज्वेलरी के नाम पर चार अंगूठियां
पीएम मोदी ने अपने पास 4 सोने की अगूंठियां होने का जिक्र किया है, जिसका वजन करीब 45 ग्राम है। इन अंगूठियों की कीमत करीब 1 लाख 13 हजार बताई है। पीएम मोदी के पास सेक्टर-1 गांधीनगर में 3 हजार 531 फिट का एक प्लाट भी जिसकी कीमत शपथ पत्र में 1 करोड़ 1 लाख बताई गई है।

सैलरी और बैंक इंटरेस्ट से होती है इनकम
पीएम मोदी ने शपथ पत्र में जानकारी दी है कि उनकी इनकम का मेन सोर्स सरकार से मिलने वाली सैलरी और बैंक से मिलने वाला इंटरेस्ट है। बता दें कि पीएम मोदी संपति के मामले में अपने कैबिनेट मंत्रियों से काफी पीछे हैं।

विज्ञापन
Loading...
www.livevns.in का उद्देश्‍य अपनी खबरों के माध्‍यम से वाराणसी की जनता को सूचना देना, शि‍क्षि‍त करना, मनोरंजन करना और देश व समाज हित के प्रति जागरूक करना है। हम (www.livevns.in) ना तो कि‍सी राजनीति‍क शरण में कार्य करते हैं और ना ही हमारे कंटेंट के लिए कि‍सी व्‍यापारि‍क/राजनीतिक संगठन से कि‍सी भी प्रकार का फंड हमें मि‍लता है। वाराणसी जिले के कुछ युवा पत्रकारों द्वारा शुरू कि‍ये गये इस प्रोजेक्‍ट को भवि‍ष्‍य में और भी परि‍ष्‍कृत रूप देना हमारे लक्ष्‍यों में से एक है।