नारस। इसे मानवीय चूक कहें या जल्दीबाज़ी बीएसएफ के बर्खास्त जवान तेज बहादुर यादव को 30 अप्रैल को जिला निर्वाचन कार्यालय द्वारा जारी नोटिस में उन्हें 90 साल का समय दिया गया है। जिला निर्वाचन कार्यालय ने तेज बहादुर यादव को कल चुनाव आयोग से अपनी बर्खस्तगी के मामले में प्रमाणपत्र लाने की एक नोटिस जारी की जिसमे समय सीमा 1 मई 2019 समय 11 बजे तक की जगह 1 मई 2109 टाइप कर दिया गया।

सोशलमीडिया पर यह लेटर इस समय चर्चाओं का विषय बना हुआ है।

विज्ञापन

ज़िला निर्वाचन कार्यालय ने नामांकन के लिए आये सभी 102 पर्चों की मंगलवार को जांच की। इस जांच के बाद कई लोगों का पर्चा खारिज हुआ। वहीं सेना के बर्खास्त जवान को जिला निर्वाचन कार्यालय ने एक नोटिस जारी की। इस नोटिस में उन्हें चुनाव आयोग से अपनी बर्खास्तगी का प्रमाण पत्र लाने की बात कही गयी थी। चुनाव आयोग के अनुसार तेज बहादुर ने दो बार नामांकन किया जिसमे दो दावे किये गए थे।

पहला दावा : हां, मुझे भ्रष्‍टाचार या अभक्‍ति के कारण बर्खास्‍त किया गया
दरअसल, प्रत्‍याशी तेज बहादुर, पुत्र शेर सिंह, निवासी राता कला, महेन्‍द्रगढ हरियाणा ने पहली बार 24 अप्रैल को निर्दल उम्‍मीदवार के तौर पर वाराणसी लोकसभा सीट से अपना नामांकन पत्र भरा था। इस पत्र के भाग 3 (क) के क्रमांक 6 में यह पूछा गया था कि ”क्‍या अभ्‍यर्थी को भारत सरकार या किसी राज्‍य सरकार के अधीन पद धारण करने के दौरान भ्रष्टाचार के कारण या अभक्‍ति के कारण पदच्‍युत किया गया है ?” इसके जवाब में तेज बहादुर ने ”हां, 19 अप्रैल 2017” लिखा है।

दूसरा दावा : नहीं, मुझे भ्रष्‍टाचार या अभक्‍ति के कारण बर्खास्‍त नहीं किया गया
वहीं 26 अप्रैल 2019 को सपा के सिंबल पर चुनाव लड़ने के लिये तेज बहादुर ने जब दुबारा नामांकन किया तो शपथ पत्र देते हुए इस बात का उल्‍लेख किया कि ”गलती से प्रथम नामांकन पत्र के भाग 3 (क) के क्रमांक 6 में उसने ”नहीं” की जगह ”हां” लिख दिया है। साथ ही तेज बहादुर ने अपने शपथ पत्र में ये भी दावा किया है कि ”उसे 19 अप्रैल 2017 को बर्खास्‍त किया गया किंतु भारत सरकार एवं राज्‍य सरकार द्वारा पदधारण के दौरान भ्रष्‍टाचार एवं अभक्‍ति के कारण पदच्‍युत नहीं किया गया है।”

इस आधार पर तेज बहादुर को नोटिस दी गयी और उन्हें आज एक मई सुबह 11 बजे तक यह प्रमाणपत्र उपलब्ध करवाना था लेकिन यहीं एक चूक हो गयी। जिला निर्वाचन कार्यालय द्वारा जारी नोटिस में तेज बहादुर को 90 साल का समय दिया गया है क्योंकि उसपर 1 मई 2109 अंकित किया गया है।

विज्ञापन
Loading...
www.livevns.in का उद्देश्‍य अपनी खबरों के माध्‍यम से वाराणसी की जनता को सूचना देना, शि‍क्षि‍त करना, मनोरंजन करना और देश व समाज हित के प्रति जागरूक करना है। हम (www.livevns.in) ना तो कि‍सी राजनीति‍क शरण में कार्य करते हैं और ना ही हमारे कंटेंट के लिए कि‍सी व्‍यापारि‍क/राजनीतिक संगठन से कि‍सी भी प्रकार का फंड हमें मि‍लता है। वाराणसी जिले के कुछ युवा पत्रकारों द्वारा शुरू कि‍ये गये इस प्रोजेक्‍ट को भवि‍ष्‍य में और भी परि‍ष्‍कृत रूप देना हमारे लक्ष्‍यों में से एक है।