नारस। गर्मी का मौसम आते ही पूरे शहर में जगह-जगह जूस कार्नर लग गए हैं। साथी ही हरी गली और चौराहों पर गन्ने का जूस मिल रहा है। ये सभी जूस कार्नर मशीन पर आश्रित हैं। ऐसे कुछ लोग शुद्ध गन्ने का रस पीने के लिए इन दिनों वाराणसी में कोल्हू में पेरे जा रहे गन्ने की तरफ रुख कर रहे हैं। पहाड़िया चौराहे के आस पास ये कोल्हू पर पेरा जा रहा गानें का जूस शुद्धता की वजह से काम दिनों में ही मशहूर हो गया है।

विज्ञापन

कोल्हू पर पेरा जा रहा है गन्ना
आज के इस वैज्ञानिक युग मे जहाँ हर कार्य मे मशीनों का प्रयोग हो रहा है वही यदि शहर में बिना किसी मशीन के प्रयोग से शुद्ध गन्ने का जूस मिल जाये तो क्या बात है। जौनपुर के मड़ियाहूं निवासी निवासी पप्पू और उसकी पत्नी इस समय आकर्षक का केंद्र हैं क्योंकि ये कोल्हू द्वारा शुद्ध गन्ने का रस पेर कर लोगों को पीला रहे हैं।

गुजरात से मंगवाया कोल्हू
इस सम्बन्ध में पप्पू ने बताया कि लकड़ी का जूस एक लिए कोल्हू सबसे पहले मैंने चेन्नई में देखा उसके बाद गुजरात गया तो वहां भी यह कोल्हू देखने को मिला। पप्पू ने बताया कि इसे देखकर वाराणसी में इस कोल्हू से शुद्ध रास बेचने की योजना बनाई और गुजरात से रेल पार्सल द्वारा एक जोड़ा कोल्हू मंगवाकर यहां फिट करवाया। पप्पू ने बताया इसमें कहीं भी लोहे का प्रयोग नहीं हुआ है सभी चीज़ें इसमें लकड़ी की हैं।

मिठास से भरपूर है इसका जूस
जूस निकालने के लिए पप्पू कोल्हू चलाता है और उसकी पत्नी कोल्हू में गन्ना लगाने का काम करती है। पप्पू ने बताया कि कोल्हू का जूस बिल्कुल शुद्ध है और इसका स्वाद भी मशीन की जूस से ज्यादा मीठा भी मिलता है। मशीन से निकलने वाले जूस में कही ना कही डीजल और मशीन से निकलने वाले का अंश मौजूद रहता है अतः उसके रस में मिठास कम मिलती है। जबकि कोल्हू से निकले गन्ने के रस में किसी प्रकार की कोई दुर्गंध नही मिलती परिणाम स्वरूप इसका रस ज्यादा मीठा मिलता है।

जो भी रुका दो गिलास से कम नहीं पीता जूस
पप्पू की पत्नी अंजलि ने बताया कि जो भी ग्राहक आते है कम से कम 2 गिलास जूस अवश्य पीते है और बताते है कि इसके रस का स्वाद तो बिल्कुल अलग है। मशीन के मुकाबले कोल्हू से रस का उत्पादन कम हो पाता है अतः ग्राहकों को रस पीने के लिए थोड़ा देर इंतजार करना होता है। हाथ से चलने वाला कोल्हू लोगो के लिए आकर्षण का केंद्र भी है। जो भी इस कोल्हू के देखने की नीयत से रुकता है वह कोल्हू से निकले गन्ने का जूस अवश्य पीता है।

 

विज्ञापन
Loading...