नारस। बीते दिनों रोहनिया थानाध्यक्ष परशुराम का एक वीडियो वायरल हुआ था, जिसमें वे एक महिला वादी को धमका रहे थे। इस वीडियो में वे एक पार्टी कार्यकर्ता की तरह बोले सुनाई दिए थे कि तुम लोग मोदी जी का चुनाव खराब करने के लिए विवाद कर रहे हो। इसके बाद आज एक बार फिर थानाध्यक्ष रोहनिया का आडियो वायरल हुआ है। बताया जा रहा है कि यह आडियो करसड़ा के विनोद सिंह और रोहनिया थानाध्यक्ष की बातचीत का है। इस ऑडियो में थानाध्यक्ष महोदय अभद्र भाषा के प्रयोग के साथ साथ वादी को चुनाव बाद परमानेंट जेल में डालने की धमकी देते सुनाई दे रहे हैं।

इसी ऑडियो में थानाध्यक्ष पिछले ऑडियो का भी जिक्र करते सुनाई दे रहे हैं कि उनके खिलाफ खबर छप गई तो लोग उन पर दबाव बना रहे हैं। उनका कहना है कि उस महिला के साथ उन्होंने कुछ भी गलत नहीं किया क्योंकि वे एक थानेदार हैं और उन्होंने वही किया है जो एक थानेदार करता है।

विज्ञापन

रोहनिया थाना क्षेत्र के पतेरवां करसड़ा के रहने वाले विनोद सिंह ने बताया कि जमीन विवाद का मामला था, जिसमे फाइनल रिपोर्ट लग चुकी थी। इस मामले की फिर से विवेचना कराई गई, जिसके लिए एसओ रोहनिया ने जांच और पूछताछ के लिए थाने पर बुलाया और वहाँ जाते ही मोबाइल लेकर उन्हें हवालात में डाल दिया।

विनोद ने बताया कि 4 घंटे बाद सिफारिश और कुछ लेनदेन तय पर उन्हें छोड़ दिया गया। लेकिन उसके बाद से 7 लाख की डिमांड हुई, फिर वह 5 लाख और अब दो लाख पर आकर टिक गई है। इस रकम को देने के लिए दबाव बनाया जा रहा है। महिला को गालियां देने वाली घटना के बाद जब थानाध्यक्ष महोदय को फ़ोन किया गया तो झुंझलाहट में उन्होंने कहा कि उस समय उस महिला छोड़कर गलत किया लेकिन अब परमानेंट जेल भेजूंगा। जैसे ही पैसे लेने के आरोप का जिक्र हुआ, साहब भड़क कर गालियां देना शुरू हो गए।

विज्ञापन
Loading...
www.livevns.in का उद्देश्‍य अपनी खबरों के माध्‍यम से वाराणसी की जनता को सूचना देना, शि‍क्षि‍त करना, मनोरंजन करना और देश व समाज हित के प्रति जागरूक करना है। हम (www.livevns.in) ना तो कि‍सी राजनीति‍क शरण में कार्य करते हैं और ना ही हमारे कंटेंट के लिए कि‍सी व्‍यापारि‍क/राजनीतिक संगठन से कि‍सी भी प्रकार का फंड हमें मि‍लता है। वाराणसी जिले के कुछ युवा पत्रकारों द्वारा शुरू कि‍ये गये इस प्रोजेक्‍ट को भवि‍ष्‍य में और भी परि‍ष्‍कृत रूप देना हमारे लक्ष्‍यों में से एक है।