नारस। हिन्दू पीजी कालेज जमानिया गाज़ीपुर के प्राचार्य देवेंद्र नाथ सिंह से 24 लाख रूपये रंगदारी मांगने के मामले में वाराणसी पुलिस को बड़ी कामयाबी मिली है। लंका पुलिस ने शातिर हत्यारोपी और रंगदारी मांगने वाले 3 बदमाशों को गिरफ्तार कर लिया है। हाल ही में इन बदमाशों पर एक व्‍यक्‍ति की हत्‍या का भी संगीन आरोप है। मुखबिर की सूचना पर लंका पुलिस ने इन्हे सामनेघाट क्रूज़र स्टैंड से पकड़ने में कामयाबी पायी है। फिलहाल इन्हे विभिन्‍न धाराओं पंजीकृत करते हुए जेल भेज दिया गया है।

नहीं दोगे रंगदारी तो पूरे परिवार को खत्म कर देंगे
इस सम्बन्ध में एसएसपी सुरेश राव आनंद कुलकर्णी ने बताया कि 10 मई की शाम को हिन्दू पीजी कालेज जमानिया, गाज़ीपुर के प्राचार्य देवेन्द्र नाथ सिंह, जोकि लंका थानाक्षेत्र के सामनेघाट इलाके में रहते हैं, के फोन पर 24 घंटे में 24 लाख रुपये देने के लिये फोन पर धमकी दी गयी। न देने पर पूरे परिवार को खत्म करने की धमकी भी बदमाशों ने दी। इसके बाद देवेंद्र नाथ सिंह ने लंका थाने में मुकदमा पंजीकृत कराया था। इस पर वाराणसी पुलिस ने मोबाइल नंबर को सर्विलांस पर लगाते हुए रंगदारी मांगने वालों का पता लगाना शुरू कर दिया।

विज्ञापन

दो कट्टा और एक पिस्टल बरामद
एसएसपी के अनुसार सर्विलांस टीम और मुखबिर से सूचना मिली की रंगदारी मामले में वांछित अपराधी सामने घाट स्थित क्रूज़र स्टैंड के पास मौजूद हैं। सूचना को तत्काल अमल में लाते हुए लंका पुलिस ने बताये गये स्थान पर दबिश देकर कृष्णानन्द सिंह, निवासी बरूई, थाना जमनिया, गाजीपुर, दिलीप सिंह उर्फ रिंकू, निवासी डेढ़गांव, थाना धीना, चंदौली और दीपक कुमार सिंह उर्फ विशाल सिंह उर्फ रिशू सिंह, निवासी नूरी, थाना धीना, चंदौली को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने इनके पास से 2 कट्टा व एक अन्य हत्या में प्रयोग की गयी पिस्टल बरामद किया है।

चोरी के मोबाइल से दी गयी थी धमकी
एसएसपी ने ये भी बताया क़ी सर्विलांस टीम ने जब मोबाइल फोन के मालिक का पता किया तो चौकाने वाले तथ्य सामने आये। जिस मोबाइल से धमकी दी गई वह मोबाइल जमानिया में प्रयोग हुआ था। उसके डिटेल से पता चला कि वह मोबाइल वेद प्रकाश यादव नाम के व्यक्ति का है। उससे पूछताछ हुई तो पता चला कि 9 मई की शाम को ही उसका मोबाइल चोरी हो गया था। जिसके संबध में आस पास एंव उस लाज में रहने वाले लड़को से पूछताछ से एक संदिग्ध विशाल सिंह उर्फ रिशू सिंह के बारे में बताया गया।

मामला छात्रसंघ के चुनाव से जुडा है
विशाल सिंह का बारिकी से अध्ययन करने पर पता चला कि उसका संबध दिलीप सिंह (जो करणी सेना का महासचिव) है तथा हिंदू पीजी कालेज जमनिया में 2017 का छात्रसंघ का चुनाव लड़ चुका था। साथ ही 2018 में विकाश राय को चुनाव लड़ा चुका था। इस दरम्यान दोनों ही बार हिन्दू पीजी कालेज जमनिया के प्राचार्य देवेन्द्र नाथ सिंह ने इसके विरूद्ध मुकदमा पंजीकृत कराया था।

की गयी थी प्राचार्य पर फायरिंग भी
इसी बात से नाराज होकर दिलीप सिंह उर्फ टिकू सिंह ने अपने दोस्त कृष्णानन्द सिंह उर्फ बिट्टू सिंह निवासी बरूई थाना जमनिया तथा विशाल सिंह उर्फ रिशू सिंह के साथ मिलकर 25 अप्रैल 1019 को चंदौली के थाना कंदवा क्षेत्र में देवेन्द्र नाथ सिंह की गाड़ी पर पीछे से पिस्टल से 3 बार फायर किया था, जिसमें देवेन्द्र नाथ सिंह बाल बाल बच गए थे, जिसके बाद 10 मई को उनसे रंगदारी मांगी गई थी।

विज्ञापन
Loading...
www.livevns.in का उद्देश्‍य अपनी खबरों के माध्‍यम से वाराणसी की जनता को सूचना देना, शि‍क्षि‍त करना, मनोरंजन करना और देश व समाज हित के प्रति जागरूक करना है। हम (www.livevns.in) ना तो कि‍सी राजनीति‍क शरण में कार्य करते हैं और ना ही हमारे कंटेंट के लिए कि‍सी व्‍यापारि‍क/राजनीतिक संगठन से कि‍सी भी प्रकार का फंड हमें मि‍लता है। वाराणसी जिले के कुछ युवा पत्रकारों द्वारा शुरू कि‍ये गये इस प्रोजेक्‍ट को भवि‍ष्‍य में और भी परि‍ष्‍कृत रूप देना हमारे लक्ष्‍यों में से एक है।