Narendra Modi Rashtra Rishi kashi vidvat parishad

नारस। लोकसभा चुनाव में प्रचंड बहुमत से विजयी होने के बाद अब प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को जल्द ही ‘राष्ट्रऋषि’ की उपाधी मिलने जा रही है। सनातन धर्म के विद्वानों की प्रतिष्ठित संस्था श्रीकाशी विद्वत परिषद की ओर से प्रधानमंत्री को ये उपाधी प्रदान की जाएगी। श्रीकाशी विद्वत परिषद के अध्यक्ष प्रोफेसर राम यत्न शुक्ल के आवास पर आयोजित एक पत्रकारवार्ता में इस बात की जानकारी दी गयी।

विद्वानों ने कहा कि भारतीय संस्कृति एवं संस्कारों के संवाहक तथा वाराणसी संसदीय क्षेत्र के सांसद एवं देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कार्यों से भारत का गौरव बढ़ा है। भारतीय परंपरा के संरक्षण में मोदी सरकार का महत्वपूर्ण योगदान है।

विज्ञापन

पत्रकार वार्ता करते हुए काशी विद्वत परिषद के मंत्री डॉ राम नारायण द्विवेदी ने बताया कि मोदी जी ने भारत के सभी वर्गों के लोगों के कल्याण की योजनाएं संचालित किया, जिससे भारतीय जनमानस के प्रत्येक नागरिक में मोदी जी के प्रति एक धारणा बनी है कि जिस प्रकार से ऋषिगण प्रत्येक जीव के कल्याण की कामना करते थे, उसी तरह मोदी जी भारत के प्रत्येक नागरिक को सुखी स्वस्थ शिक्षित बनाने के लिए पूर्ण प्रयत्न कर रहे हैं। इसलिए, काशी विद्वत परिषद ने निर्णय लिया है कि मोदी जी को राष्ट्र ऋषि की उपाधि से अलंकृत किया जाएगा।

Kashi Vidvat Parishad, काशी विद्वत परिषद

विद्वत परिषद के संगठन मंत्री डॉक्टर उत्तम ओझा ने बताया कि अतिशीघ्र प्रधानमंत्री जी की उपस्थिति में काशी में भव्य आयोजन करके इस सम्मान को प्रदान किया जाएगा। परिषद के अध्यक्ष प्रोफेसर राम यत्न शुक्ल ने कहा कि मोदी जी का आचरण भारतीय ऋषि परंपरा के अनुकूल है और वे वसुधा के कल्याण के लिए सतत प्रयत्नशील हैं तथा वसुधैव कुटुंबकम के चिंतन की ऊर्जा उनमें दिखाई देती है।

विज्ञापन
Loading...