काशी के कबीर ने दिल्ली में फैलाई ‘अमन’ की खुशबू

0
3642

नारस। कबीर की धरती वाराणसी में इंसानियत की गंगा आज भी बह रही है और इस गंगा को सदानीरा बनाने वालों में से एक हैं लावारिसों के वारिस और 24X7 अपनी बाईक एम्बुलेंस से तैयार रहने वाले अमन, जिन्होंने ने शनिवार की सुबह दिल्ली में भी इंसानियत का पैगाम दे डाला। अमन शुक्रवार को नई दिल्ली के लिए रवाना हुए थे। शनिवार की सुबह दिल्ली पहुँचने से पहले एक व्यक्ति ट्रेन से कटा हुआ रेलवे ट्रैक पर दिखाई दिया तो वो स्टेशन से वापस यार्ड में आये और उसका प्राथमिक उपचार किया पर आरपीएफ की हीलाहवाली और एम्बुलेसं की देरी ने उस व्यक्ति की जिंदगी उससे छीन ली।

अमन कबीर ने बताया कि मेरी ट्रेन नई दिल्ली पहुंची ही थी कि आउटर पर दुसरे रेलवे ट्रैक पर एक व्यक्ति को तड़पते हुए देखा, जिसकी दोनों टांगे कट गयी थी। ट्रेन तेज़ थी इसलिए जब प्लेटफार्म पर लगी तो मै उतारकर वापिस एक किलोमीटर दूर उस व्यक्ति के पास पहुंचा तो उसके दोनों पैर कटे हुए थे और ब्लड बहुत तेज़ी से निकल रहा था। मैंने तुरंत अपने फर्स्टऐड बाक्स से काटन निकाला और उसके पैरों पर रख दिया फिर डिटॉल से पैर को धोया।

अमन ने बताया कि तब तक रेलवे के कर्मचारी और आरपीएफ और जीआरपी भी पहुँच गयी पर रेलवे के पास कोई फर्स्टऐड सुविधा नहीं थी। इसके अलवा एम्बुलेंस भी एक घंटे के बाद पहुंची जिसकी वजह से व्यक्ति की मौत रेलवे लाइन पर ही हो गयी। अमन ने फोन पर बताया कि यदि एम्बुलेंस समय पर आ जाती तो उक्त व्यक्ति की जानबच सकती थी। देश की राजधानी में अगर ऐसे हालात हैं तो छोटी जगहों पर मेडिकल की व्यवस्था कैसी होगी।