गंगा से कचरा निकाल दिन की शुरुआत करता है ये बनारसी, 5 साल से कर रहा सदानीरा की सेवा

0
77

नारस। गंगा दशहरा के दिन लोग गंगा स्नान और उसके दर्शन को उमड़ते हैं। इस गंगा को स्वच्छ करने के लिए रोज़ नए प्लान बनाये जा रहे हैं लेकिन मां गंगा की दशा सुधर नहीं रही है। इस चीज़ को समझते हुए एक बनारसी पिछले पांच सालों से गंगा की सफाई में जी जान से जुटा हुआ है। एक कम्पनी का मैनेजर रोज़ सुबह गंगा से कम से कम 50 किलो कचरा निकलता हैं। इस गंगा दशहरा हमने इस असली गंगा पुत्र से बातचीत की, पेश है एक ख़ास रिपोर्ट।

शहर के चौक इलाके के गड़वासी मोहल्ले के निवासी राजेश शुक्ला शहर के प्रतिष्ठित शॉपिंग काम्प्लेक्स में मैनेजर के पद पर कार्यरत्त हैं। यहां दिन भर काम में व्यस्तता रहती पर उसके बावजूद राजेश शुक्ला अपनी टीम के साथ रोज़ सुबह सदा नीरा के तट पर पहुँच जाते हैं और उसे स्वच्छ करने की कवायद में जुट जाते हैं। ये गंगा किनारे उसकी तलहटी में जमा सिल्ट को बाहर निकालने का काम शुरू करते हैं। पिछले पांच सालों से यह कार्य राजेश शुक्ला रोज़ कर रहे हैं और अब तक 8 हज़ार किलो सिल्ट गंगा से बाहर निकाल चुके हैं।

गंगा किनारे का है छोरा
राजेश ने हमें बताया कि ‘गंगा किनारे रहने की वजह से वहां के वातावरण और परिवेश से लगाव सा है। सुबह उठकर गनग किनारे टहलना बचपन से ही आदत रही पर धीरे धीरे गंगा का किनारा दोषित होने लगा। लोग आस्था के नाम पर गंगा में फूल-माला, भगवान की तस्वीरें डाल देते हैं जो किनारे पर सिल्ट बना रहे थे। इसे देख कर मन बहुत विचलित होता था।

PM से हुए प्रेरित
राजेश शुक्ला ने बताया कि साल 2014 में जब प्रधानमंत्री ने स्वच्छता का संकल्प अस्सी घाट से लिया और घाटों की तस्वीर बदलने लगी तो मैंने भी उसी दिन से सदानीरा को स्वच्छ करने संकल्प लिया और रोज़ सदा नीरा के तटों से कचरा और सिल्ट निकलना शुरू कर दिया। इन पांच सालों में गंगा के 84 घटों से अब तक 8 हज़ार किलो सिल्ट निकाल चुका हूं।

करसड़ा जाता है इकट्ठा किया हुआ कचरा
अपने संकल्प को पूरा करने में राजेश शुक्ला अपने प्रोजेक्ट नमामि गंगे आईएल एंड एफएस प्रोजेक्ट के माध्यम से लोगो से घाटों पर कचरा न फैलाने की अपील करते हैं। साबुन ,कूड़े-कचरे सभी दूषित सामग्रियों को इस्तेमाल न करने की गुजारिश करते हैं लगभग हर घाट से प्रतिदिन उनकी टीम कचरा निकालती है जिसे वे करसड़ा प्लांट भेज देते हैं।

ध्वनि विस्तारक यंत्र से करते हैं जागरूक
राजेश शुक्ला अपने इस कार्य को करने के कुछ मोटरबोट के माध्यम से ध्वनि विस्तारक यंत्र का भी सहयोग लेते हैं, जिसके माध्यम से वे लोगो को गंगा में कचरा न फैलाने, गंगा के महत्व, आरती, अध्यात्म सभी चीजो के बारे में जागरूक करते हैं।

राजेश शुक्ला के इस प्रशंसनीय कार्य के लिए उन्हें सीएम योगी आदित्यनाथ ने कुम्भ के दौरान प्रयागराज बुलाकर सम्मानित भी किया है। पीएम मोदी ने भी उनके इस कार्य की सराहना की है।राजेश शुक्ला गंगा स्वच्छता के इस संकल्प को आजीवन पूरा करने के लिए प्रयासरत रहेंगे और वे काशीवासीयो से भी ये अपील करते हैं कि सभी बढ़ चढ़कर उनके इस कार्य में सहयोग करे तभी पतित पावनी माँ गंगा स्वच्छ हो