नारस। बीती देर रात आईएमए ब्लड बैंक के बाहर रो रहे बिहार निवासी व्यक्ति के 9 दिन के बच्चे को खून देकर चेतगंज थाने पर तैनात सिपाही राकेश सरोज ने खून देकर बच्चे की जान बचाकर इंसानियत का फर्ज निभाने के साथ ही खाकी का भी मान बढ़ाया। इस मान का सम्मान आज सीओ चेतगंज ने किया और आज कार्यालय में बनाकर सम्मानित किया। फिलहाल इस नेक कार्य की पूरे प्रदेश में इस समय चर्चा हो रही है।

विज्ञापन

जानकारी के अनुसार महमूरगंज क्षेत्र के एक निजी अस्पताल में भर्ती बिहार निवासी व्यक्ति के 9 दिन के बेटे को डॉक्टरों ने बीती रात तत्काल खून चढ़ाने को कहा था। बच्चे के पिता का कुछ दिनो पहले आंख का ऑपरेशन हुआ था इस कारण उसका खून लेने से आईएमए के लोगो ने मना कर दिया था। अपने बच्चे को न बचा पाने के मलाल के साथ आईएमए के गेट पर बैठकर रोने लगा।

आईएमए ब्लड बैंक के बाहर रो रहे व्यक्ति को देखकर चेतगंज थाने पर तैनात राकेश सरोज ने समस्या पूछी। समस्या जान राकेश सरोज ने तुरंत व्यक्ति से जानकारी ली और आईएमए जाकर ब्लड दिया जिससे उस बच्चे की जान बच सकी।

इस कार्य की जानकारी जब सबको हुई तो सभी ने इसकी प्रशंसा की। सुबह सीओ चेतगंज अंकिता सिंह ने सिपाही राकेश सरोज को इस पुनीत कार्य के लिए सम्मानित किया।

विज्ञापन
Loading...