नारस।  नवनियुक्त एडीजी ज़ोन ब्रज भूषण कार्यभार संभालने के बाद बुधवार की रात सिगरा थाने पहुंचे।  यहां एक-एक चीज़ का बारीकी से निरिक्षण किया।  इस दौरान सिपाहियों के लिए बनी बैरक में पंखे और पानी की दुर्व्यवस्था देख एसओ सिगरा को आड़े हाथ लिया। उन्होंने थानेदार सतीश सिंह को 15 दिनों में व्यवस्था चाक चौबंद करने के निर्देश दिए हैं। वहीं थाने के बगल में रहने वाले एक व्यक्ति द्वारा पुलिस द्वारा अन्याय की बात सुन उन्होंने इस प्रकरण की जांच सीओ अंकिता सिंह को सौंपी है।

एडीजी ब्रज भूषण ने बताया कि थाने पर मुस्तैद पुलिस की मुस्तैदी देखने और परखने के लिए इस प्रकार के औचक निरिक्षण बराबर होते रहेंगे।

विज्ञापन

नवनियुक्त एडीजी ज़ोन ब्रज भूषण पुलिस की रात में क्या कार्य प्रणाली है इसे देखने के लिए बीती रात अचानक सिगरा थाने पहुँच गये।  उनके साथ आईजी विजय सिंह मीणा, एसएसपी आनंद कुलकर्णी, सीओ चेतगंज अंकिता सिंह भी पहुंची। एक एक चीज़ का बारीकी से निरिक्षण करने के बाद उन्होंने सिपाहियों के लिए बनी बैरक का रुख किया।  यहां पहुँचते ही उनका पारा हाई हो गया।

सिपाहियों के लिए बनी बैरक में गर्मी में ज़मीन में सोते सिपाहियों से उनकी दिक्कतों को जाना।  इसके अलावा बाथरूम में पानी की वयवस्था भी चेक। दुर्व्यवस्था का अम्बार देख उन्होंने सिगरा थानाध्यक्ष सतीश सिंह को जमकर फटकार लगाईं और अगले 15 दिनों में सभी कार्यों को दुरुस्त करने का फरमान जारी कर दिया।

इसी बीच सिगरा थाने के बगल में रहने वाले रविंदर सिंह एडीजी के निरिक्षण की बात सुन थाने पर पहुंचे।  उन्होंने एडीजी को बताते हुए आरोप लगाया कि कुछ समय पहले एक थानेदार साहब मेरा मकान हड़पने की साजिश रच रहे थे।  मैंने उनका विरोध किया तो उन्होंने मेरी दो नाबालिग बेटियों को झूठे मुकदमे फसा दिया अब वो दोनों घर से नहीं निकलती उनकी मानसिक स्थिति ठीक नहीं रहती, लेकिन पुलिस में मेरी मदद नहीं कर रही है।

मामले की गंभीरता को देखते हुए एडीजी ने इस मामले की जाँच सीओ चेतगंज अंकिता सिंह को सौंप दी है।

विज्ञापन
Loading...
www.livevns.in का उद्देश्‍य अपनी खबरों के माध्‍यम से वाराणसी की जनता को सूचना देना, शि‍क्षि‍त करना, मनोरंजन करना और देश व समाज हित के प्रति जागरूक करना है। हम (www.livevns.in) ना तो कि‍सी राजनीति‍क शरण में कार्य करते हैं और ना ही हमारे कंटेंट के लिए कि‍सी व्‍यापारि‍क/राजनीतिक संगठन से कि‍सी भी प्रकार का फंड हमें मि‍लता है। वाराणसी जिले के कुछ युवा पत्रकारों द्वारा शुरू कि‍ये गये इस प्रोजेक्‍ट को भवि‍ष्‍य में और भी परि‍ष्‍कृत रूप देना हमारे लक्ष्‍यों में से एक है।