पशुपालकों ने डीएम से लगायी गुहार, साहब कर्मचारी कर रहे दुर्व्यहवहार

0
104

नारस। स्मार्ट सिटी योजना के अंतर्गत शहर में ओवरफ्लो सीवर की समस्या से निजात के लिए शहरों में बसी डेरियों के पशु और घरों में पाली गयी गायों को जिला प्रशासन, नगर निगम के सहयोग से शहर के बाहर कैटल कॉलोनी में शिफ्ट कर रहा है। यह कार्रवाई हाईकोर्ट के आदेश के बाद की जा रही है। इस करवाई के दौरान हो रहे दुर्व्यवहार और इस कार्रवाई की अवधि को बढ़ाने की मांग को लेकर आज सभी दलों का एक संयुक्त प्रतिनिधिमंडल जिलाधिकारी सुरेंद्र सिंह से मिला और उन्हें समस्याओं से समबन्धित ज्ञापन सौंपा।

हाईकोर्ट के आदेश के बाद पशुपालकों के पशुओं पर कार्रवाई करते हुए उन्हें कैटल कालोनी में भेजा जा रहा है। इससे पशुपालकों को काफी नुकसान हो रहा है और कम समय के चलते वो अपना इंतजाम नहीं कर पा रहे हैं। साथ ही कैटल कालोनी में पशु मर जा रहे हैं। पशुपालकों का कहना है कि इससे दूध की कीमतों में उछाल आएगा।

प्रतिनिधि मंडल के सदस्य के रूप में जिलाधिकारी से मिलने पहुंची वाराणसी के पूर्व सांसद प्रत्याशी शालिनी यादव का कहना था कि पशुपालकों पर कार्रवाई करते हुए कई जगह ऐसी सब बातें सामने आ रही हैं जिसमें महिलाओं के साथ दुर्व्यवहार हो रहा है। इन्हीं सब बातों को लेकर के हम लोगों ने जिलाधिकारी को ज्ञापन सौंपा है उन्होंने कहा कि शहर में कई गरीब पशुओं के सहारे अपना और अपने परिवार का भरण पोषण कर रहे हैं। उनके पशुओं को इस तरीके से अचानक शहर के भेजे जाने पर उनका जीवन यापन मुश्किल हो जाएगा।

पशुपालकों के साथ मीटिंग के बाद जिलाधिकारी सुरेंद्र सिंह ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि हाईकोर्ट के आदेश के क्रम में यह कार्रवाई की जा रही है जो निरंतर जारी रहेगी। पशु पालकों से पहले ही कहा गया था कि वो कैटल कालोनी में प्लाट सुरक्षित करवा लें, लेकिन आज हमें ज्ञापन मिला है कि कार्रवाई के नाम पर पशुपालकों से दुर्व्यहवहार किया जा रहा है। इस बात का हम विशेष ध्यान रखेंगे कि दुर्व्यहवहार न किया जाए। हर टीम में 2 महिला कांस्टेबल भी रहेगी ताकि महिलाओं को भी कार्रवाई होने पर कोई समस्या न हो।