नारस। आजमगढ़ के मेहनाजपुर थानांतर्गत करसड़ा गांव के रहने वाले व्यवसायी राजेंद्र यादव (60 वर्ष) और उसके पुत्र संजय यादव (30 वर्ष) का शव आज मुंबई से वाराणसी एयरपोर्ट पहुंचा। एयरपोर्ट पर परिजनों को जैसे ही शव मिला उनके करुण क्रंदन से एयरपोर्ट का माहौल गमगीन हो गया। बता दें कि कुछ दिनों से मुंबई में लगातार बारिश हो रही है। राजेंद्र अपने परिवार के साथ मुंबई के गोरेगांव में रहते हैं। बारिश की वजह से मकान की दीवार में उतरे करंट की चपेट में आने से दोनों पिता-पुत्र की मौत हो गयी।

शव को वाराणसी एयरपोर्ट पर आजमगढ़ से लेने पहुंचे परिजन ने बताया कि 28 जून को राजेंद्र यादव अपने घर की दीवार में उतरे करंट की चपेट में आ गए। उन्हें तड़पता देख उनका पुत्र संजय भी उनकी तरफ दौड़ा और उन्हें बचाने के प्रयास में खुद भी करंट की चपेट में आ गया। चीखपुकार सुनकर राजेंद्र की पत्नी आशा देवी और छोटे बेटे दीपू ने भी दोनों को बचाने का प्रयास किया और झुलस गए।

विज्ञापन

इस घटनाक्रम मे राजेंद्र और संजय की मौत हो गयी जबकि आशा और दीपू का इलाज अभी मुम्बई मे ही चल रहा है। मृतकों का शव लेकर परिजन मुंबई से आज वाराणसी पहुंचे हैं। बता दें कि संजय की अभी साल भर पहले शादी हुई है।

विज्ञापन
Loading...