कोरोना पॉज़िटिव का शव लकड़ी पर जलाने से नहीं फैलता संक्रमण, अफवाह फैलाने वालों पर होगी FIR

वाराणसी। कोरोना संक्रमण को लेकर सतर्क जिला प्रशासन, जिलाधिकारी के नेतृत्व में दिन रात इससे निपटने में लगे हैं। इसी बीच कुछ लोगों द्वारा कोरोना संक्रमण मरीज़ का शव लकड़ी पर जलाने के बाद उसका संक्रमण तेज़ी से फैलता है कि अफवाह फैलाई जा रही है। इस पर जिला प्रशासन ने सख्ती दिखाई है और साफ़ किया है कि यदि किसी समुदाय या व्यक्ति ने इस सम्बन्ध में कोई अफवाह फैलाई तो उसके विरुद्ध सख्त से सख्त करवाई की जायेगी और उसे शहर के किसी भी घाट पर अंत्योष्टि का कार्य करने से वंचित कर दिया जाएगा।

लोग फैला रहे अफवाह
जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा ने बताया कि विगत कई दिनों से यह देखने में आ रहा है कि किसी भी कोरोना पॉज़िटिव व्यक्ति की मौत होती है तो उसे लकड़ियों के माध्यम से जलाने की आवश्यकता होने पर हरिश्चंद्र घाट पर कतिपय स्थानीय लोगों द्वारा मृतक के शव को जलने नहीं दिया जा रहा है। उन्होंने बताया कि इसमें दो प्रकार के तथ्य सामने आये हैं कि कुछ व्यक्ति के द्वारा यह अफवाह उड़ाई गयी है कि कोरोना पॉज़िटिव व्यक्ति के शव को जलाने से कोरोना संक्रमण फैलता है। यह पूरी तरह से एक अफवाह है। कोरोना पॉज़िटिव व्‍यक्‍ति‍ की लाश जलने से किसी भी प्रकार का संक्रमण नहीं फैलता है।

दर्ज होगी एफआईआर
जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा ने सख्त लहजे में कहा कि यदि भविष्य में यह अफवाह किसी ने उड़ाई तो महामारी अधिनियम के अंतर्गत सम्बन्धित के विरुद्ध नामजद एफआईआर दर्ज कराई जाएगी। उन्होंने बताया कि अन्य शहरों में भी लकड़ियों के माध्यम से कोरोना पॉज़िटिव मृतकों के शव का अंतिम संस्कार हो रहा है। वाराणसी जनपद में भी उसी प्रकार से होगा। उन्होंने बताया कि यदि किसी एक समुदाय या सामान्‍य नागरि‍क ने इसके विरुद्ध किसी भी प्रकार की अफवाह फैलाई तो उससे सख्ती से निपटा जाएगा एवं ऐसे व्यक्तियों के लिए भविष्य में किसी भी अंत्योष्टि घाट पर कार्य नहीं करने दिया जाएगा।

स्वार्थगत राजनीति का शिकार हो रहे लोग
इसके अलावा जिलाधिकारी ने बताया कि कुछ विशेष समुदायों के द्वारा डेडबॉडी के दाह संस्कार का कार्य किया जाता है। कुछ लोगों द्वारा स्वार्थगत राजनीति के कार्य से समुदायों के लोगों को भड़काया जाता है तथा ऐसे लोगों के बहकावे में आकर समुदाय द्वारा डेडबॉडी का दाह संस्कार नहीं किया जाता है। इन समुदायों को स्पष्ट करने के आदेश दि‍ये गए हैं कि जिस भावना से उनके द्वारा ने सामाजिक कार्यों को किया जाता है, उसी भावना से देशहित और समाजहित में मानवीयता और भावना का परिचय देते हुए मृतकों के शवों या लावारिसों के दाह संस्कार कराएं व किसी के बहकावे में ना आये। इस कार्य में जो भी खर्च आएगा उसे रेड क्रास वहन करेंगे।

राजनीति करने वालों को करें चिह्नित
जिलाधिकारी ने सख्त आदेश देते हुए कह कि जिन लोगों द्वारा राजनीतिवश इन समुदायों को भड़काने का कार्य किया जा रहा है ऐसे व्यक्तियों को चिह्नित करें ततहा उनके विरुद्ध 107/116151 सीआरपीसी में एवं महामारी अधिनियम में कड़ी करवाई करें। जिलाधिकारी ने आदेश दिया है कि इस कार्य में सिविल डिफेन्स के वालिंटियर्स को भी शामिल कर लें। अंत्योष्टि स्थल की तरफ मौजूद सिविल डिफेसन के वालिंटियर्स, पार्षद अन्य जनप्रतिनिधि आदि इन सब लोगों को समझाया जाए तथा मानवता मूल्य का परिचय देते हुए वाराणसी का ना खराब ना होने दिया जाए। यदि किसी जनप्रतिनिधि द्वारा मानवता विरोधी बातें की जाए तो ऐसे लोगों के विरुद्ध भी करवाई की जाए।