कोविड 19 के मरीज़ों की मृत्यु पर लगाएं लगाम, मरीज़ों को दिलाएं सटीक इलाज : देवेश चतुर्वेदी

वाराणसी। जनपद में लगातार कोरोना मरीज़ों के इलाज में लापरवाही की बात सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है। इन सब के बीच 51 लोगों की अब तक कोरोना के कारण मौत हो चुकी है। ऐसे में कोरोना से हो रही मृत्यु पर लगाम और मरीज़ों को सटीक इलाज मुहैया करवाने को लेकर जिलाधिकारी के कैम्प कार्यालय पर जिलाधिकारी, सीएमओ, एडीएम प्रोटोकॉल और एसीएम फोर्थ सहित जनपद के वरिष्ठ डॉक्टर्स से के साथ अपर मुख्य सचिव एवं नोडल अधिकारी वाराणसी देवेश चतुर्वेदी ने कोविड 19 से सम्बंधित बैठक की।

देवेश चतुर्वेदी ने बताया कि जनपद में कोविड मरीजों की मृत्यु दर पर लगाम लगाने और बिना देर किए सटीक इलाज मुहैया कराने के लिए शासन द्वारा पीजीआई हास्पिटल लखनऊ से दो सदस्यीय विशेषज्ञों की टीम भेजी गई है, जिसमें डॉ रूद्राशीश तथा डा अजमल को भेजा गया है। इनके द्वारा मरीजों के इलाज के तौर-तरीकों की जानकारी की जायेगी। इलाज को बेहतर बनाने के लिए महत्वपूर्ण सुझाव देने के साथ-साथ इलाज में जो चीजें अच्छी होंगी उसे अन्य जगहों पर किया जायेगा। इस सम्बंध में टीम द्वारा आज बीएचयू, दीनदयाल तथा हेरिटेज हास्पिटल का दौरा किया जायेगा।

इस दौरान नोडल अधिकारी ने जोर देते हुए कहा कि एल 1, एल 2 तथा एल 3 हास्पिटल्स के बीच एक मजबूत समन्वय स्थापित कर कोविड पेशेंट्स का इलाज किया जाय। कोविड का मरीज चिन्हित हो जाने के बाद उसे बिना समय गंवाये हास्पिटल पहुंचाया जाय। हास्पिटल पहुंचने पर मरीज की स्थिति का आंकलन करते हुए उसे किस स्तर से इलाज की जरूरत है इसे डाक्टरों द्वारा तत्काल परीक्षण कर इलाज शुरू किया जाय।

नोडल अधिकारी ने कहा कि विभिन्न स्तर पर मरीज की पहचान करने से लेकर इलाज शुरू कराने तक आपस में टीमों का एक मजबूत को-आर्डिनेशन करने के लिए आपस में बैठकर कोविड 19 के खिलाफ एक सामरिक रणनीति के तहत कार्य करने पर बल दें। बैठक के दौरान कोविड की दवा की उपलब्धता, मूल्य नियंत्रण तथा सुलभ विक्रय पर भी विचार किया गया।

बैठक में जिलाधिकारी कौशलराज शर्मा, एडीएम प्रोटोकॉल, एसीएम प्रथम, मुख्य चिकित्साधिकारी, हेरिटेज, बीएचयू तथा दीनदयाल उपाध्याय अस्पताल के डॉक्टर्स भी उपस्थित रहे।